Kamyaabi Shayari – दुनियाँ की हर चीज ठोकर

दुनियाँ की हर चीज ठोकर लगने से टूट जाया करती है ,
एक “कामयाबी” ही है जो ठोकर खा के ही मिलती है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…