Kashmakash Shayari – उलझा रही है मुझको ये

उलझा रही है मुझको ये कशमकश अंदर से…
कि तुम बस गये हो मुझमे या हम खो गए है तुझमे…!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *