Kashmakash Shayari – कितने मसरूफ़ हैं हम जिंदगी

कितने मसरूफ़ हैं हम जिंदगी की कशमकश में
इबादत भी जल्दी में करते हैं फिर से गुनाह करने के लिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…