Kashmakash Shayari – मैं पा नहीं सकी इस

मैं पा नहीं सकी इस कशमकश से छुटकारा​,
तू मुझे जीत भी सकता था मगर हारा क्यूँ​…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…