Kashmakash Shayari – यूँ ही जिंदगी की कशमकश

यूँ ही जिंदगी की कशमकश में थोड़ा उलझ गये हैं यारों,
वरना हम तो दुश्मनों को भी अकेला महसूस होने नहीं देते!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…