Kasoor Shayari – मेरी आवारगी में कुछ कसूर

मेरी आवारगी में कुछ कसूर तुम्हारा भी है….
ऐ.. दोस्त
जब तुम्हारी याद आती है तो घर अच्छा नही लगता……..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…