Khona Shayari – जो हमारा था ही नहीं

जो हमारा था ही नहीं उसे खोना कैसा?…
जब रहना ही हैं तन्हा तो रोना कैसा?…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…