Kismat Shayari – इतना भी ना तराशो कि

इतना भी ना तराशो कि वजूद ही ना रहे हमारा……
हर पत्थर की किस्मत मे नहीं होता संवर कर खुदा हो जाना….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…