Kismat Shayari – कागज़ के नोटों से आखिर

कागज़ के नोटों से आखिर किस किस को खरीदोगे,
किस्मत परखने के लिए यहाँ आज भी, सिक्का हीं उछाला जाता है ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…