Kismat Shayari – ना मेरा दिल बुरा था

ना मेरा दिल बुरा था न उसमें कोई बुराई थी,
सब मुक़्क़दर की खेल है बस किस्मत में जुदाई थी…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…