Kismat Shayari – वो मेरे हाथो की लकीरे

वो मेरे हाथो की लकीरे देखकर अक्सर मायूस हो जाते है….
शायद, उन्हे भी एहसास हो गया है की वो मेरी क़िस्मत मे नही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…