Kiss Shayari – आता है जी में साक़ी-ए-मह-वश

आता है जी में साक़ी-ए-मह-वश पे बार बार
लब चूम लूँ तिरा लब-ए-पैमाना छोड़ कर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…