Kiss Shayari – धमका के बोसे लूँगा रुख़-ए-रश्क-ए-माह

धमका के बोसे लूँगा रुख़-ए-रश्क-ए-माह का
चंदा वसूल होता है साहब दबाव से

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…