Lamha Shayari – एक उम्र है जो तेरे

एक उम्र है जो तेरे बगैर गुज़ारनी है,
और एक लम्हा भी तेरे बगैर गुज़रता नही…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…