Lamha Shayari – मैं ख़ामोशी तेरे मन की

मैं ख़ामोशी तेरे मन की, तू अनकहा अलफ़ाज़ मेरा…
मैं एक उलझा लम्हा, तू रूठा हुआ हालात मेरा…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…