Lamha Shayari – हैं दर्द सीने में मगर

हैं दर्द सीने में मगर होंठों पे जज़्बात नहीं आते..
आखिर क्यों वापिस वो बीते हुए लम्हात नहीं आते !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…