Maa Shayari – किसी दुआ की तरह सीने

किसी दुआ की तरह सीने से लगाया है बचपन मेरा
वो दरख़्त कहीं मेरी माँ तो नहीं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…