Maa Shayari – थाली हैं… माँ के हाथों से

थाली हैं… माँ के हाथों से बनी रोटियाँ नहीं
बिस्तर हैं… माँ की नर्म गोदी नहीं….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…