Majboor Shayari – तेरी चुप्पी ग़र… तेरी कोई

तेरी चुप्पी ग़र… तेरी कोई मज़बूरी है.!.
तो रहने दे… इश्क़ कौन सा ज़रूरी है..!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…