Majboori Shayari – किसी की मजबूरियाँ पे न

किसी की मजबूरियाँ पे न हँसिये.
कोई मजबूरियाँ ख़रीद कर नहीं लाता.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…