Majboori Shayari – मजबूरियाँ ओढ़ के निकलता हूँ

मजबूरियाँ ओढ़ के निकलता हूँ घर से,
वर्ना शौक तो अब भी है बारिशों में भीगने का…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *