Mausam Shayari – कहीं फिसल ना जाओ ज़रा

कहीं फिसल ना जाओ ज़रा संभल के रहना,
मौसम बारिश का भी है और मुहब्बत का भी…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…