Mausam Shayari – शहर में बिखरी हुई हैं

शहर में बिखरी हुई हैं, ज़ख्म-ए-दिल की खुशबुएँ..
ऐसा लगता है के दीवानों का मौसम आ गया..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…