Mehboob Shayari – ये शिकवा बेवजह है ये

ये शिकवा बेवजह है ये तो दस्तूर-ए-चाहत हैं
के जो मेहबूब होता हैं ज़रा मग़रूर होता हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…