Mehboob Shayari – संगमरमर बन जाऐ तो ताज

संगमरमर बन जाऐ तो
ताज कहना
मेरे मेहबूब मेरी निगाहो के नही रूह के ही पास रहना !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…