Mehfil Shayari – बस एक चेहरे ने तनहा

बस एक चेहरे ने तनहा कर दिया हमे वरना!
हम खुद में एक महफ़िल हुआ करते थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…