Mehfil Shayari – मुझे गरीब समझ कर महफिल

मुझे गरीब समझ कर महफिल से निकाल दिया……
क्या चाँद की महफिल मे सितारे नही होते

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…