Mehfil Shayari – सहारे ढुंढ़ने की आदत नही

सहारे ढुंढ़ने की आदत नही हमारी,
हम अकेले पूरी महफ़िल के बराबर है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…