Muddat Shayari – आओ के तुम्हें देखकर इफ़्तार

आओ के तुम्हें देखकर इफ़्तार कर लें हम,
इक मुद्दत हो गई है, इन आँखों को रोज़ा रखे हुए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…