Mulaqaat Shayari – कभी हक़ीक़त में भी बढ़ाया

कभी हक़ीक़त में भी बढ़ाया करो ताल्लुक़ हमसे…..
अब ख़्वाबों की मुलाक़ातों से तसल्ली नहीं होती..!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…