Naraaj Shayari – मंजिल का नाराज होना भी

मंजिल का नाराज होना भी जायज था…,
हम भी तो अजनबी राहों से दिल लगा बैठे थे…!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…