Paraya Shayari – कल तक था में जिसका

कल तक था में जिसका साया,
आज बन गया हु उसी से पराया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…