Paraya Shayari – खटखटाए न कोई दरवाजा बाद

खटखटाए न कोई दरवाजा, बाद मुद्दत मैं खुद में आया हूँ…
एक ही शख़्स मेरा अपना है, मैं उसी शख़्स से पराया हूँ|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…