Paraya Shayari – सौ खामियाँ मुझमे सही मगर इक

सौ खामियाँ मुझमे सही मगर,

इक खूबी भी है,

अपनों को आज तक पराया नहीं किया….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…