Parwaah Shayari – परवाह नहीं मुझे जमाना कितना

परवाह नहीं मुझे जमाना कितना भी खिलाफ हो
चलुंगा उसी राह पर जो सीधा और साफ हो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…