Parwaah Shayari – परवाह नहीं है पैरों के

परवाह नहीं है पैरों के छालो की
परवाह है बस अपनी मंजिल पाने की

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…