Parwaah Shayari – शौक से तोड़ो दिल मेरा

शौक से तोड़ो दिल मेरा मैं परवाह क्यों करूँ
तुम ही रहते हो इसमे अपना घर खुद ही उजाड़ोगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…