Prerak Shayari – अगर -मगर की डगर पर

अगर -मगर की, डगर पर ,
नहीं मिलती मंज़िल !
मंज़िलें होती हैं हासिल,
जो तय इरादे हों !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…