Prerak Shayari – मुश्किलें दिल के इरादे आजमाती

मुश्किलें दिल के इरादे आजमाती हैं ,
स्वप्न के परदे निगाहों से हटाती हैं ,
हौसला मत हार गिर कर ओ मुसाफिर ,
ठोकरें इन्सान को चलना सिखाती हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…