Qayamat Shayari – क़यामत टूट पड़ती है ज़रा

क़यामत टूट पड़ती है ज़रा से होठ हिलने पर
जाने क्या हश्र होगा जब वो खुलकर मुस्कुराएंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…