Qayamat Shayari – मुझे मेरे कल कि फ़िक्र

मुझे मेरे कल कि फ़िक्र तो ……आज भी नहीं ….पर…..
ख्वाहिश ….तुम्हें पाने कि…. क़यामत तक रहेगी..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…