Qayamat Shayari – हुस्न वालों को क्या जरूरत

हुस्न वालों को क्या जरूरत है संवरने की
वो तो सादगी में भी क़यामत की अदा रखते हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…