Safar Shayari – आज तक उस थकान से

आज तक उस थकान से दुख रहा है बदन,
एक सफ़र किया था मैंने ख़्वाहिशों के साथ ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…