Safar Shayari – तुमने ही सफ़र कराया था

तुमने ही सफ़र कराया था मोहब्बत की कश्ती का,
अब नजरे ना चुराओ मुझे डूबता देख कर..!.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *