Sapne Shayari – सारे सपने तोड़कर बैठे हैं

सारे सपने तोड़कर बैठे हैं, दिल का अरमान छोड़कर बैठे हैं..
ना कीजिये हमसे वफ़ा की बातें, अभी-अभी दिल के टुकड़े जोड़कर बैठे हैं…!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *