Sawan Shayari – जितना हँसा था उससे ज़्यादा

जितना हँसा था उससे ज़्यादा उदास हूँ
आँखों को इन्तज़ार ने सावन बना दिया…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…