Sawan Shayari – सावन-भादों साठ ही दिन हैं

सावन-भादों साठ ही दिन हैं फिर वो रुत की बात कहाँ
अपने अश्क मुसलसल बरसें अपनी-सी बरसात कहाँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…