Shaam Shayari – एक सवेरा था जब हँस

एक सवेरा था जब हँस कर उठते थे हम
और
आज कई बार
बिना मुस्कुराये ही शाम हो जाती है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…