Shaam Shayari – शायर कहकर बदनाम ना कर मैं

शायर कहकर बदनाम ना कर,

मैं तो
रोज़ शाम को दिनभर का ‘हिसाब’ लिखता हूँ !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…