Shart Shayari – अपनी मर्जी से तो मुझे

अपनी मर्जी से तो मुझे खाक भी मंजूर है…
तेरी शर्तो पर तो ताज भी मंजूर नहीं…!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…